Home | About us | Services | Disclaimer | Contact us | Enquiry
dreams_omens banner

SWAPANA & SHAKUN


स्वप्न की परिभाषा

इस संसार में प्राय: सभी मनुष्य स्वप्न देखते हैं I स्वप्न में देखी गयी हर वस्तु, दृश्य, घटना आदि का एक अर्थ अवश्य होता है I प्रकृति के द्वारा उस व्यक्ति विशेष या उससे जुडी हुई चीजों के लिए दिया गया एक संकेत होता है क्योंकि आज हमारे जीवन में जो कुछ भी अच्छी या बुरी घटना घट रही है, जिस सुख- दुःख को हम आज झेल रहे हैं वह उसके केन्द्र बिंदु से आपकी तरफ बहुत समय पहले से ही चल चुकी होती है क्योंकि ये पूरा का पूरा ब्रह्माण्ड एक निश्चित सिद्धांत पर चल रहा है I कार्य और कारण का सिद्धांत हर जगह लागू है अर्थात - आज जो कुछ भी कार्य घटित होता हुआ दिखाई दे रहा है प्रकृति की गोद में उसका कोई ना कोई कारण अवश्य है जैसे एक दिल्ली से चले हुए वाहन का गुडगाँव की तरफ से आ रहे वाहन से बीच मार्ग में टकराव हो गया तो इसमें प्रकृति की तरफ से कार्य- कारण का सिद्धांत जुड़ा हुआ था I वो एक ऐसे निश्चित समय में अपने स्थानों से चले की उस जगह पर एक निश्चित समय में पहुँचने पर दुर्घटना का सामना करना पड़ा I मार्ग में उन दोनों का हजारों वाहनों से सामना हुआ होगा परन्तु टकराव उन दोनों का ही हुआ I यदि उन दोनों के चलने के समय में थोडा सा भी परिवर्तन कर दिया जाता तो यह घटना टल सकती थी I एक मनुष्य जीवन में किन बीमारियों से ग्रस्त होगा ये उसके जीन (Gene) का अध्ययन करके एक वैज्ञानिक उसके जन्म से पूर्व ही बता सकता है और उस जीन के दोषों को दूर करके उस व्यक्ति को रोग मुक्त भी रख सकता है I ऐसे ही एक कुशल ज्योतिषी बच्चे की कुण्डली को देखकर उसके पूर्व जन्म के कर्मों को पहचान कर उसके भविष्य का निर्धारण कर देता है और अच्छे उपायों द्वारा उसको टाला भी जा सकता है I ये सब इसलिए संभव है की आज की घटना आपके पास पहुँचने से अनेकों महीनों कई बार तो अनेकों वर्षों पहले से ही अपनी यात्रा प्रारम्भ कर चुकी है बस सुदूर, अनंत के गर्भ से आने वाली उस अच्छी या बुरी घटना को हमारा अवचेतन मन जोकि अत्यन्त शक्ति से सम्पन्न है हमारे बाह्य मन के सो जाने पर हमें एक दृश्य, प्रतीक आदि के रूप में दिखा देता है बस इसी का नाम स्वप्न है I

Click Here For Details...
 
शकुन एवं अपशकुन

प्रकृति एवं हमारे आसपास के वातावरण में घटने वाली वे आकस्मिक घटनाएं जो किसी शुभ- अशुभ घटना की प्रतीक हैं उन्हें शकुन कहा जाता है I सृष्टि की शुरुआत से ही मानव ने अपने आसपास कुदरत और इसके अवयवों जैसे पशु, पक्षी, पेड़- पौधे, अग्नि, जल, वायु, आकाश, स्वयं के अंग विशेष में होने वाली फडकन आदि हलचल, संयोग आदि का अपने जीवन में अच्छा- बुरा प्रभाव बार- बार होते हुए देखा और इसमें अपना विश्वास प्रकट करता चला गया I संसार का कोई ऐसा देश या समाज नहीं है जहां इस प्रकार की मान्यताएं न होँ, जहां शकुन- अपशकुन का विचार न किया जाता हो, संसार के महान, विख्यात एवं सफल लोगों जैसे खिलाडियों, राजनीतिज्ञों आदि को भी देखेंगे तो पायेंगे कि उनके जीवन में भी कुछ धारणाएं, विश्वास, [इन बातों को न मानने वालों की नज़र में अन्धविश्वास (Supersticious)] व्याप्त हैं, जिनके आधार पर वे अपने जीवन को दिशा देते हैं I जिन प्राक्रतिक लक्षणों के सामने आ जाने पर शुभ फल, खुशियाँ प्राप्त होती हैं, उन्हें शुभ शकुन कहा जाता है और जिन चिन्हों के सामने आने पर परेशानियाँ, दुःख, झंझट  उत्पन्न होते हैं उन्हें अपशकुन कहा जाता है I

Click Here For Details...

जीवन का हर सपना और हर शकुन प्रकृति से आपके लिए दिया गया एक संदेश होता है जिसके फल को जानकर आप अपने जीवन को एक नई दिशा दे सकते हैं और कभी तो बड़ी मुसीबत से कर सकते हैं अपना बचाव.....
जानिए मात्र 50 रूपये में अपने सपनों और शकुन का फल
Click Here
सपने और आपके जीवन में उनका फल
अग्नि
यदि स्वप्न में अग्नि दिखाई दे तो आग से क्षति हो सकती है अथवा शरीर को चोट पहुँच सकती है I यदि आग फैली हुई दिखाई दे तो अधिक भयंकर परिणाम व्यक्त करेगी I वात- पित्त संबंधी रोगों की अधिकता हो सकती है I
कमल
यदि स्वप्न में कमल दिखाई दे, तो शुभ समझना चाहिए I इसके फलस्वरूप रोग निवृत्ति, ऐश्वर्य वृद्धि और सुयश प्राप्ति के अवसर आएंगे I
कंगन अथवा चूड़ी
यदि स्वपन में कंगन (चूड़ा -चूड़ी) दिखाई दे तो वह शुभ नहीं होता लेकिन यदि कोई स्त्री ऐसा देखे तो सौभाग्यशालिनी होगी I
 
स्वप्न में चूड़ियों का दिखाई देना शुभ लक्षण होगा I इसका अभिप्राय जीवन- भर साथ निभाना या प्रेम सहित जीवन जीना है I अविवाहित कन्या देखें तो उसके पति का प्रतीक है और ऐसा स्वप्न किसी विवाहित स्त्री को दिखाई दे तो उसके पति की दीर्घायु का प्रतीक है I यदि पति रोगी है तो इसे शीघ्र ही रोग मुक्त होने का संकेत समझना चाहिए I
ग्रहण
यदि स्वप्न में ग्रहण पड़ता हुआ देखें तो यह अशुभ सूचक होगा I इसके परिणाम स्वरुप अनेक प्रकार के झंझट उपस्थित हो सकते हैं I संभव है कि समाज में अपमान, निंदा, तिरस्कार आदि कि प्राप्ति हो I
चण्डी, दुर्गा या काली
स्वप्न में काली अथवा अन्य किसी देवी के दर्शन होँ, तो बहुत ही शुभ समझना चाहिए I इसके परिणामस्वरूप समृद्धि, सुख- शांति तथा मंगलाचार के अवसर बढ़ेंगे I धनागमन के स्त्रोत खुलेंगे I यदि कोई रोग हो तो उससे मुक्ति मिलेगी I समाज में प्रतिष्ठा और ख्याति बढ़ेगी I
चाबुक
यदि स्वप्न में चाबुक दिखाई दे तो यह अशुभ लक्षण होगा I इससे किसी से झगडा, गाली- गलौच, मार- पीट तथा मुकदमेबाजी का  प्रारम्भ हो सकता है I
छुरी
यदि स्वप्न में छुरी दिखाई दे तो यह अच्छा शकुन है I यदि जातक किसी संकट में हो तो उसका समाधान होगा I यदि वह मृत्यु शय्या पर पड़ा है तो उसका मोक्ष होगा I यदि किसी सामान्य रोग से ग्रस्त है तो स्वस्थ हो जाएगा I 
 
बालक
यदि स्वप्न में लड़का- लड़की या छोटा बालक दिखाई पड़े तो घर में संतान की वृद्धि होगी I
चन्द्रमा

स्वप्न में चन्द्रमा का दर्शन करना भी अत्यन्त शुभ लक्षण है I इसे व्यापार के लाभ में वृद्धि, नौकरी में उन्नति, समाज में  प्रतिष्ठा एवं वृद्धि का प्रतीक माना जाता है I यह भी संभव है कि किसी प्रकार का शुभ समाचार प्राप्त हो I

चन्दन
यदि स्वप्न में चन्दन दिखाई दे तो शुभ है I घिसा हुआ चन्दन पित्त प्रधान रोगों के दूर होने का संकेत है तथा किसी शुभ समाचार कि प्राप्ति का भी सूचक है किन्तु रखा हुआ या सुखा हुआ चन्दन कोई विशेष फल देने वाला नहीं होता I
जटाधारी
यदि स्वप्न में कोई जटाधारी, साधु, संत दिखाई दे तो शुभ होगा I यदि वह आशीर्वाद देता है तो उसके वचन फलित होंगे I यदि वह भिक्षुक है तो और कुछ मांग कर ले जाता है तो शुभ नहीं समझा जाता है I
 
यदि स्वप्न में तपस्वी दिखाई दे तो यह धार्मिक एवं आध्यात्मिक अभिरुचि की ओर संकेत करता है I इससे आत्मोन्नति का अवसर प्राप्त होगा I दान एवं परोपकार की प्रवृति में वृद्धि होगी I 
 
जुगनू
यदि स्वप्न में जुगनू दिखाई दे तो यह भविष्य में होने वाले उतार- चढ़ाव का परिचायक है I ऐसे स्वप्न कभी लाभ तो कभी हानि होने का संकेत देते हैं I
ज्योति (प्रकाश)
स्वप्न में किसी प्रकार कि ज्योति (प्रकाश) दिखाई दे तो शुभ लक्षण है I इसके फलस्वरूप ज्ञान कि वृद्धि होती है I धर्म एवं आध्यात्म में रूचि बढ़ती है I यह स्वप्न सौभाग्य वृद्धि में करने वाला है I
झंडा
यदि स्वप्न में फहराता झंडा दिखाई दे तो इसे शुभ लक्षण समझना चाहिए I यह उन्नति का प्रतीक है I साधक को धन, संतान, सुयश, मान- प्रतिष्ठा आदि कि प्राप्ति होगी I
टीका या तिलक
यदि स्वप्न में टीका या तिलक होता हुआ दिखाई दे तो शुभ नहीं होता I यह सभी कार्यों में बाधाएं उपस्थित होने का परिचायक होगा I सरल से सरल कार्य भी इस बाधा में संकेत के बीच में ही ठप्प हो जाएंगे I
डाक्टर
यदि स्वप्न में डाक्टर दिखाई दे तो यह शुभ नहीं है I इसके परिणामस्वरुप इसे घर में रोग, चोट, प्रियजन को घातक रोग, दुर्घटना आदि का प्रतीक समझना चाहिए I
दुपट्टा
यदि स्वप्न में दुपट्टा दिखाई दे तो यह दाम्पत्य जीवन में सुख का प्रतीक है I यदि कोई अविवाहित लड़की ऐसा स्वप्न देखे तो इच्छित पति पाती है I
यदि स्वप्न में चुनरी दिखाई दे तो यह सौभाग्य का प्रतीक है I यदि चुनरी ओढ़े हुए कोई विवाहिता स्त्री दिखलाई पड़े तो प्रेम के मामले में सफलता का प्रतीक है I
चिराग
यदि स्वप्न में चिराग दिखाई दे तो शुभ समझा जाता है, परन्तु जलता होने पर ही I क्योंकि बुझा हुआ चिराग रिक्तता का सूचक होता है I जबकि जलता हुआ चिराग सुख समृद्धि का प्रतीक समझा जाता है I
ढोल
स्वप्न में ढोल का दिखाई देना शुभ नहीं समझा जाता है I यदि ढोल बज रहा हो तो किसी संकट कि सूचना देता है I इसे रोग, दुर्घटना, धनाभाव अथवा किसी अनिष्ट समाचार का प्रतीक समझना चाहिए I
तक्षक (नाग)
यदि स्वप्न में नाग दिखाई दे तो इसे शुभ समझना चाहिए I यह दृश्य धनागम कि दृष्टि से अधिक सौभाग्यशाली और घर में सुख शांति रहने का प्रतीक है I
तलवार
स्वप्न में तलवार दिखाई डॉ तो यह लक्षण तरकश के समान ही प्रभावी होगा I इसका अभिप्राय यह है कि यदि किसी जातक या उसका कोई प्रियजन बंधन में हो तो वह उससे छुटकारा प्राप्त कर लेगा I
ठेला
यदि स्वप्न में कोई ठेला दिखाई दे और वह फलों से भरा हुआ हो तो बहुत ही शुभ होता है I खाली ठेला दिखाई दे तो धनाभाव का सूचक होता है I यदि वह ठेला मैले से भरा हुआ हो तो अत्यधिक बुरा समझना चाहिए I
तमाचा
यदि स्वप्न में तमाचा मरना दिखाई दे तो वह शुभ- अशुभ दोनों प्रकार के फलों को देने वाला होता है I यदि स्वप्नदृष्टा किसी को चांटा मार दे तो शत्रु पर विजय का प्रतीक है I इसके विपरीत वह स्वयं चांटा खाता हुआ दिखाई देता है तो पराजय का प्रतीक है I
नमक
यदि स्वप्न में नमक का ढेर दिखाई दे तो स्वास्थ्यवृद्धि का संकेत मिलता है I इसका अर्थ यह भी हो सकता है कि जातक के घर में कोई बीमार हो तो वह शीघ्र ही स्वास्थ्य को प्राप्त करता है I
पकवान
यदि स्वप्न में पकवान दिखाई दें तो सामान्य फलदायी होगा I जातक स्वयं पकवान खाए तो यह रोगवृद्धि का सूचक है I यदि दूसरों को पकवान खिलाए तो शुभ होगा I
ताम्बूल
यदि स्वप्न में लगे हुए पानों के अनेक बीड़े किसी थाल में रखे हुए दिखाई दें तो यह उत्तम स्वास्थ्य का प्रतीक माना जाता है I किसी के मत में यह विवाह या सगाई का प्रतीक भी माना जाता है I
ताश
यदि स्वप्न में ताश (प्लेइंग कार्ड्स) दिखाई दें तो यह भ्रमित कर देने वाला स्वप्न होगा I जातक अपने कार्यों में अनेक प्रकार की समस्याओं को बाधा के रूप में सामने खडा हुआ देखता है लेकिन अंत में उनका हल भी मिल जाता है I 
 
तिल

यदि स्वप्न में तिलों का ढेर दिखाई दे तो इसे शुभ समझना चाहिए I यह लक्षण विवाह- पद्धति, मांगलिक कार्यों की ओर संकेत करता है तथा धार्मिक अनुष्ठान आदि का भी सूचक है I

तीर
स्वप्न में तीर दिखाई दे तो तरकश और तलवार के समान ही फल समझना चाहिए I इसमें जातक अपने लक्ष्य की ओर तीव्रगति से बढ़ता है और उन्नति प्राप्त करता है I
तृण (घास)
स्वप्न में तृण (घास) का दिखाई देना शुभ है I हरी घास पशु  के आगमन की सूचना देती है जबकि सूखी घास घर में अभावग्रस्त स्थिति की सूचक होती है I
शिव
यदि स्वप्न में भगवान शिव के दर्शन हो तो इसे शुभ समझा जाता है I इससे सभी पापों और विपत्तियों का नाश होता है I जातक सुख- शांति, सुमति, सुख्याति को प्राप्त करता है I
त्रिशूल
त्रिशूल का स्वप्न में दिखाई देना सौभाग्य का सूचक होता है I यह सभी प्रकार के भय को दूर करने और आत्मोन्नति में प्रयत्नशील होने का संकेत देता है I
दर्पण
यदि स्वप्न में दर्पण दिखाई दे तो शुभ और अशुभ दोनों प्रकार का फल व्यक्त करता है क्योंकि दर्पण विपत्ति की सम्भावना व्यक्त करता है तथा जातक को किसी मानसिक परेशानी में डाल सकता है I
दर्द
यदि स्वप्नदृष्टा को स्वप्न में अपने शरीर के किसी भाग में दर्द होता दिखाई दे तो शीघ्र ही उसके शरीर के किसी भाग में चोट लगेगी या दर्द होगा I यदि जातक किसी रोग से पीड़ित है तो उसे रोग से मुक्ति मिलेगी I
दीपावली
यदि स्वप्न में दीपावली का उत्सव दिखाई दे तो इसे शुभ संकेत मानना चाहिए I इसका अभिप्राय यह है कि जीवन में उजाला एवं प्रकाश का उदय होगा I
दूध
यदि स्वप्न में दूध का भरा हुआ बर्तन दिखाई दे तो यह शुभ होता है I इससे आर्थिक दृष्टि से सम्पन्नता का आभास मिलता है तथा घर में धन- धान्य की कमी नहीं रहती I
दुर्घटना
यदि स्वप्न में दुर्घटना होती हुई दिखाई दे तो इसे अशुभ लक्षण मानना चाहिए I इससे किसी प्रकार की कोई घटना घटित होने का आभास मिलता है अथवा किसी घातक चोट की आशंका बढ़ जाती है I
देवस्थान
स्वप्न में देवस्थान दिखाई दे तो इसे शुभ लक्षण समझना चाहिए I वह आध्यात्मिक विकास एवं धार्मिक अभिरुचि जागृत होने की ओर संकेत करता है I जातक में परोपकार की भावना जागृत होती है I इस कारण उसके प्रति अनेक हृदयों में सम्मान के भाव बढ़ जाते हैं I
देवनदी
यदि स्वप्न में किसी भी पवित्र नदी के दर्शन होँ तो यह पवित्र करने वाली सुरसरि जातक के सभी पापों को नष्ट करके उसे धार्मिक  अभिरुचि की ओर अग्रसर कराती है I
 
स्वप्न में नदी दिखाई दे तो शुभ होगी I किन्तु यदि यह जलयुक्त हुई तो आपकी आकांक्षा पूर्ति का संकेत मिलेगा I यदि सूखी हुई तो उसका फल जातक के समक्ष अनेक अभावों की उपस्थिति के रूप में मिलेगा I
धन
स्वप्न में गड़ा हुआ धन या लाटरी से धन की प्राप्ति हो तो यह बहुत ही शुभ लक्षण होगा I इसे आकस्मिक रूप से पर्याप्त मात्रा में धन की प्राप्ति का संकेत समझना चाहिए I
धुआं
स्वप्न में धुआं उठता हुआ दिखाई दे तो यह कार्यों में रूकावट एवं मानसिक परेशानी का सूचक है I संभव है कि किसी रोग या शत्रु  की शक्ति में बढ़ोतरी हो, जिसके कारण स्वप्नदृष्टा जातक को अनेक मुसीबतों का सामना करना पड़े I
ध्यान
स्वप्न में कोई साधक ध्यानमग्न दिखाई दे तो यह शुभ लक्षण माना जाता है I स्वप्नदृष्टा के लिए यह आत्मोन्नति का प्रतीक है I
नाच- गान
स्वप्न में नाच- गान के दृश्य दिखलाई दे तो ये शुभ और अशुभ दोनों प्रकार के हो सकते हैं I यदि नाच- गान मधुर और लय- ताल व्यवस्थित रूप में हो तो शुभ और अव्यवस्थित लय- ताल में हो तो अशुभ होता है I
 
यदि स्वप्न में नायिका या नर्तकी दिखाई दे, तो शुभ माना जाता है I इससे भौतिक सुख और जीवन की रंगीनियों में वृद्धि होगी और आमोद- प्रमोद के अवसर प्राप्त होंगे I
नीलगाय
यदि स्वप्न में नीलगाय दिखाई दे तो इसे शुभ ही समझना चाहिए I इसे भौतिक और आध्यात्मिक दृष्टि से हितकर माना जा सकता है I घर में दूध- दही, अन्न आदि की कमी नहीं रहेगी I इससे धार्मिक भावनाएं जागृत होंगी तथा दान- पुण्य, परोपकार आदि में मन लगेगा I
नीड़ (पक्षियों का घोसला)
यदि स्वप्न में नीड़ (पक्षियों का घोसला) दिखाई दे तो यह बहुत शुभ स्वप्न माना जाता है I इससे घर में आरोग्य और सुख- शांति बनी रहेगी तथा परिवार में वृद्धि होगी I किन्तु कोई उस घोसले को तोड़ता हुआ दिखाई दे तो यह अशुभ सूचक होगा I इसे मकान के टूटने, नष्ट होने, छिनने आदि परिणामों का संकेत समझना चाहिए I
नूपुर
यदि स्वप्न में नूपुर पहने हुए स्त्रियों का नाच होता हुआ दिखाई दे तो शुभ समझा जाता है I नूपुर का शब्द सदैव कल्याणकारी होने का संकेत देता है I इससे सभी प्रकार के कल्याणों में वृद्धि होती है I
नेत्र

स्वप्न में यदि कोई व्यक्ति नेत्र प्रदान करे या नेत्रों के सुन्दर होने का वर प्राप्त करे तो इसका अर्थ ज्ञान- वृद्धि होना समझा जाएगा I जातक को शीघ्र ही भौतिक और आध्यात्मिक दोनों प्रकार के ज्ञान में पारंगतता की प्राप्ति होना संभव है I

पगड़ी
स्वप्न में जातक को पगड़ी दिखाई देती है तो यह मान- मर्यादा एवं प्रतिष्ठा प्राप्ति की प्रतीक होगी I पहले से तिरस्कृत एवं अप्रतिष्ठित जातक को पुन: मान- सम्मान मिलेगा I
पंख
स्वप्न में पंख का दिखाई देना, जातक के कल्पनाशील होने का संकेत है I अभिप्राय यह है कि जातक अपनी कल्पना के बल पर इच्छित कार्यों में सफलता अर्जित करेगा I
अस्थिपंजर
स्वप्न में पंजर (हड्डियों का ढांचा) दिखाई दे तो शुभ माना जाता है I विद्वानों के मत में यह लक्षण स्वप्नदृष्ट के भाग्योदय का प्रतीक है I उसकी सभी क्षेत्रों में उन्नति होगी I
प्रणय (विवाह)
स्वप्न में प्रणयबंधन का दिखाई देना शुभ माना जाता है I यह स्वप्नदृष्टा को अभीष्ट पत्नी की प्राप्ति करने का लक्षण है I यह दाम्पत्य जीवन के सुखमय होने का भी प्रतीक है I
पिस्तौल
यदि स्वप्न में पिस्तौल,तमंचा या बंदूक दिखाई दे तो इसे सुरक्षा का प्रतीक माना जा सकता है I किन्तु इन सभी शस्त्रों से गोली चलने का दृश्य दिखाई दे तो निश्चय ही अशुभकारी होगा और भय का कारण बनेगा I
पवनपुत्र
स्वप्न में पवनपुत्र का दिखाई देना अत्यंत शुभ माना जाता है I यह कल्याणकारी, उत्थानप्रद एवं सभी प्रकार के सुख देने वाला होता है I
डाकिया
यदि स्वप्न में डाकिया दिखाई दे तो समझना चाहिए की किसी प्रकार का संदेश प्राप्त होगा I यह संदेश शुभ या अशुभ कैसा भी हो सकता है I
मधु
स्वप्न में शहद से भरा बर्तन या शहद का छत्ता दिखाई दे जाये तो शुभ है I इससे शीघ्र ही सुख- शांति की प्राप्ति होगी तथा जीवन रसमय होगा I शुभ समाचार भी मिलेंगे I
माणिक्य
स्वप्न में यदि माणिक्य दिखाई दे जाए तो शुभ समझना चाहिए इसे रत्न की प्राप्ति का प्रतीक माना जा सकता है I
मोती
यदि स्वप्न में मोतियों का ढेर अथवा मोतियों की लड़ी दिखाई दे तो यह शकुन सौभाग्यवर्धक होगा I इसे रत्न आदि आभूषणों को उपलब्ध कराने वाला चिन्ह मानते है I
रुद्राक्ष
स्वप्न में रुद्राक्ष का दिखाई देना, चाहे वह रुद्राक्ष कि माला या रुद्राक्ष के मनके ही होँ, बहुत ही शुभ लक्षण समझना चाहिए I इसे सभी प्रकार के कल्याणों का प्रतीक मान सकते हैं I
लक्ष्मी
स्वप्न में लक्ष्मीजी के दर्शन होँ तो यह अत्यन्त सुख- सौभाग्य का प्रतीक होगा I इसे धनागम का स्त्रोत खोलने वाला, प्रतिष्ठा प्राप्त करने वाला लक्षण समझना चाहिए I
शंख
यदि स्वप्न में बजता हुआ शंख दिखाई दे तो यह बहुत शुभ दृश्य समझा जाएगा I यह अत्यन्त कल्याणकारी एवं सौभाग्य का प्रतीक होगा I
शकुन और अपशकुन
चील संबंधी शकुन
  1. यदि किसी लम्बी यात्रा के लिए निकलते ही चील की आवाज़ सुनाई दे तो सुख की प्राप्ति होगी I
  2. यात्रा से वापिस आते हुए चील की आवाज सुनाई दे तो भी धन की प्राप्ति होगी I
  3. यात्रा के लिए चलते हुए चील अपने मुह में कोई खाद्य पदार्थ लिए हुए दिखें तो इसे शुभ समझें I
  4. चील का घर पर आकर बैठना या इसका मंडराना अशुभ होता है I
उल्लू संबंधी शकुन
  1. रात्रि की यात्रा हो और उल्लू दायीं ओर बोले तो शुभ एवं दिखे तो अशुभ I बायीं ओर उल्लू का बोलना अशुभ एवं दिखना शुभ होता है I
  2. उल्लू यदि तीन दिन तक लगातार घर पर आकर बोलें तो धन हानि या नुकसान की आशंका होती है I
  3. सात रात्रियों तक उल्लू घर पर आकर बोलता रहे तो अत्यन्त अशुभ होता है I
  4. उल्लू जातक की यात्रा समय पीठ के पीछे चलें तो मनोरथ की सफलता होती है I
बगुले संबंधी शकुन
  1. बगुले का किसी भी प्रकार से दिखाई देना, बोलना, उड़ना अत्यन्त शुभ शकुन है I
  2. सारस पक्षी का किसी भी प्रकार से दिखाई देना शुभ मिलाप का संदेश है I यह पक्षी यदि जोड़े में दिखाई दें तो प्रेम की प्राप्ति होती है I 
  3. बस इसका दाहिनी ओर बोलना अशुभ तथा बायीं ओर बोलना शुभ शकुन होता है I
तोता संबंधी शकुन
  1. तोते का यात्रा काल में दायीं ओर बोलना या दिखाई देना शुभ है I
  2. तोते का यात्रा काल में बायीं ओर बोलना भय को प्रकट करता है I
मुर्गे संबंधी शकुन
  1. मुर्गे का प्रात:काल देहली पर चढ़कर बोलना लाभकारी होता है I
  2. सुबह घर से निकलते ही मुर्गे का बायीं ओर से दायीं ओर आना शुभ है I
  3. यात्रा काल में मुर्गे का सामने आना शुभ होता है I
  4. यदि पीठ पीछे आकर अचानक से बोलें तो भय एवं कष्ट की प्राप्ति होती है I
  5. शाम के समय घर लौटते हुए मुर्गा बोलें तो रोग बढ़ते हैं I
  6. सुबह के समय सामने से आती हुई मुर्गी गृहस्थ सुख को देती है किन्तु शाम के समय सामने आना गृहक्लेश को दर्शाता है I
  7. यात्रा से लौटते समय मुर्गा मुर्गी का जोड़ा परस्पर स्नेहरत हो तो यह शकुन सारे मनोरथों को सफल करता है I
चकवा संबंधी शकुन
  1. यात्रा काल में चकवा पक्षी समूह में दिखाई दें तो सुख की प्राप्ति होगी I
  2. यात्रा की शुरुआत में चकवा पक्षी उड़ता दिखाई दे तो हानि होगी I
  3. घर से निकलते हुए चकवा चकवी का जोड़ा दिखाई दें या शब्द करें तो यह शकुन समृद्धि का सूचक है I
  4. इनका आर्त (दुखी) स्वर अच्छा नहीं होता I
मधुमक्खी संबंधी शकुन
  1. किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत में भौरां बायीं ओर किसी फूल- पत्ती पर बैठा हुआ दिखाई दे तो शुभ अथवा बायीं ओर आ जाना भी शुभ है I
  2. यदि भौरां सामने घूमता दिखाई दे तो धन और सम्मान की प्राप्ति होती है I
  3. यदि बर्र अथवा मधुमक्खी सामने से आती दिखाई दें तो शकुन अच्छा नहीं होता I बयीं और बर्र का दिखाई देना सामान्य किन्तु मधुमक्खी धन लाभ कराती है I किसी काम को करके आते हुए बर्र दायीं ओर आ जाएं तो किये कराये पर पानी फिर जाता है I 
  4. मधुमक्खी का लौटते वक्त दायीं ओर आना अच्छा माना जाता है I
बिल्ली संबंधित शकुन
  1. यात्रा के समय बिल्ली का बायीं ओर से दायीं ओर की तरफ रास्ता काटना अशुभ होता है I
  2. यदि ऐसे समय में बिल्ली का मुह चूहे या किसी जानवर के मांस से भरा हुआ हो और सामने से आ जाएं तो शुभ होता है I 
  3. कुछ आवाज करती हुई आएँ तो अच्छा नहीं होता I
  4. बिल्लियाँ लडती हुई दिखाई दें तो देखने वाले को अपयश की प्राप्ति होती है I
  5. यदि बिल्ली अचानक घर में आकर तुरंत ही बाहर चली जाएं तो रोग और शत्रु का नाश करती हैं I
  6. दीपावली के दिन बिल्ली का बच्चे सहित आना धन के आने का प्रतीक है, उसे दूध पीला कर विदा करना चाहिए I
  7. बिल्ली का घर में अपने बच्चों को जन्म देना शुभ होता है, यदि इसकी नाल को किसी प्रकार से प्राप्त कर लिया जाएं तो साक्षात् लक्ष्मी की प्राप्ति होती है I
  8. बिल्ली का किसी प्रकार से अचानक आकर चाट जाना अशुभ ही होता है
बन्दर संबंधित शकुन
  1. यदि घर से बाहर जाते हुए बायें भाग की तरफ बन्दर दिखाई दें तो इसे अच्छा समझें और यदि इसका शब्द भी सुनाई दें तो धन लाभ तक भी हो सकता है I
  2. क़ानूनी कार्य से निकलते समय बन्दर का बायीं तरफ दिखाई देना जीत का सूचक है I
  3. यदि दोपहरी में बन्दर दायीं ओर दिखाई दे तो धन हानि एवं कार्य में बाधा का सूचक है I
  4. यदि अनेक बंदर चारों दिशाओं में फैले हुए मिलें तो यह अच्छा नहीं है I ऐसे में यात्रा को कुछ क्षणों के लिए रोककर भगवान विष्णु के नामों का स्मरण करके पुन: यात्रा प्रारम्भ करें I
  5. यदि चलते समय बंदर किसी ऐसे ऊंचे स्थान में बैठा है जैसे बुर्ज, मुख्य द्वार, पेड़ की टहनी आदि जिसके नीचे से निकलना मज़बूरी हो तो यह शुभ शकुन नहीं होता I
  6. सायं काल के समय भी बन्दर का बायीं ओर रहना शुभ होता है I
गाय और बकरी संबंधित शकुन
  1. गाय और बकरी शकुन के रूप में एक सा ही फल प्रदान करती हैं I यदि घर से किसी कार्य के लिए निकलते समय गौ या बकरी अपने बच्चे को दूध पिलाती हुई दिखाई दें तो यह श्रेष्ठ शकुन है I समझिये आपकी सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाएंगी I
  2. गाय या बकरी का दाहिनी ओर किसी भी रूप में दिखाई देना आपकी खुशी का प्रतीक है I
  3. गायों का समूह यदि बायीं ओर हुँकार आदि का शब्द कर रहा हो तो इससे भी धन, सन्तान, कार्यसिद्धि आदि शुभ फल घटित होते हैं I
  4. रात्रि के समय गाय का कठोर स्वर में बोलना आने वाले भय को सूचित करता है I
  5. यदि गाय या बकरी अचानक से सामने आकार ख़ुर्र के अगले भाग से यदि मिट्टी खोदने लागे तो समझिये आपके लिए रोगों को बुला रही है I
  6. प्रसन्नता पूर्वक गर्दन को ऊंचा उठाकर आपके प्रति गाय या बकरी स्नेह को प्रकट करें तो अगले 6 महीनों में बड़ी खुशी की प्राप्ति होगी I
  7. शकुन के विचार में गौ यदि कपिला अर्थात श्याम वर्ण की हो तो बेस्ट, लाल हो तो बेटर एवं सफ़ेद हो तो गुड होती है I 
  8. दुधारू भैंस का दर्शन भी शुभ ही होता है जबकि क्रोधी भैंसे का दर्शन अशुभ ही होता है I
हाथी से संबंधित शकुन
  1. जो हाथी अपनी चौकी आदि से विभूषित, श्रेष्ठ वस्त्रों से ढका हुआ, अच्छे कपड़ों वाले महावत सहित एवं मस्त चाल से चलता हुआ यात्रा की शुरुआत में सामने आता हुआ दिखाई दें तो सभी मनोरथों की पूर्ति होती है I
  2. सफ़ेद वस्त्रों से अलंकृत हाथी का सामने से अथवा दाहिनी ओर से आना अत्यन्त शुभ होता है I
  3. कोई भी हाथी यदि अपनी सूंड को दाहिनी ओर घुमाता हुआ मिलें तो इसे सुख की प्राप्ति समझिये I
  4. अपनी मस्ती में चलता हुआ हाथी सामने से या दाहिनी ओर मिलें तो यह भी शुभ शकुन है I
  5. मुकद्दमा या प्रतियोगिता के लिए निकलते हुए दिखाई दिया हुआ हाथी यदि अचानक ही अपनी चाल को तेज कर लें तो निश्चित विजय समझिये I
  6. प्रतियोगिता अथवा परीक्षा के लिए जाते हुए हाथी यदि वृक्षों को रौंदता हुआ मिलें तो सफलता की प्राप्ति होगी I
घोड़े से संबंधित शकुन
  1. किसी भी कार्य विशेष से जाते हुए सामने से सफ़ेद घोड़े का दिखाई देना शुभ शकुन है I
  2. यदि भूरे वर्ण का अथवा किसी मिश्रित वर्ण का घोडा अपने साजो समान सहित आता हुआ मिलें तो इसे भी अच्छा समझिये I 
  3. घोड़े का बायीं ओर आकर हिनहिनाना अथवा दायें पैर से धरती को खोदना अति शुभ होता है एवं शीघ्र ही प्रोमोशन का सूचक है I
  4. यात्रा काल में किसी घोड़े का बायें पैर को पेट की तरफ उठाये हुए मिलना अशुभ कहा जाता है I किन्तु दायें पाँव की यह स्थिति शुभ कही गई है I
  5. लाल अथवा पीले रंग का घोडा सामने से अचानक आ जाएं तो राजसी सुख प्राप्त होते हैं I
  6. धार्मिक कार्यों के लिए अथवा मंदिर आदि जाते समय सफ़ेद घोड़े का दिखाई देना ईश्वर की कृपा को दर्शाता है I
  7. वाहन, मशीनरी, मकान, भूमि आदि को लेने के लिए जाते समय काले घोड़े का दिखाई देना अत्यन्त शुभ होता है I
गधे से संबंधित शकुन
  1. किसी अच्छे कार्य के लिए जाते समय बायीं तरफ गधे का मिलना कार्य सिद्धि का लक्षण है I
  2. कृषि कार्यों के लिए गधे का शकुन शुभ माना जाता है I
  3. बायीं ओर से गधा अपने शरीर को खुजलाता हुआ मिल जाएं तो धन लाभ होता है I
  4. गधे का सामने से आकर रेंकना अशुभ एवं पीठ पीछे रेंकना शुभ होता है I
  5. सामने से आकर गधे का पैरों को दुत्कारना गृहक्लेश का सूचक है I
  6. दायीं ओर से आता हुआ गधा यदि अचानक से जातक के पीछे चला जाएं तो कम समय में कार्य की सिद्धि होती है I
सियार (गीदड़) से संबंधित शकुन
  1. सियार जिसे गीदड़ भी कहते हैं I यात्रा काल में बायीं ओर दिखाई देना अथवा इस तरफ से इसकी आवाज का आना शुभ माना जाता है इससे धन, सम्मान तथा कामना की पूर्ति होती है I
  2. किन्तु इस जीव का दाहिनी तरफ आना या बोलना यात्रा में रोग, धन का नाश एवं कष्ट की बढ़ोत्तरी को दर्शाता है I
  3. सियार का सामने से आकर बोलना अथवा ठीक पीठ पीछे इसके स्वर का सुनाई देना अपशकुन है I
  4. रात्रि समय अपने घर से पूर्व अथवा पश्चिम दिशा की तरफ से गीदड़ के स्वर का सुनाई देना मनहूसियत का सूचक है I
  5. उत्तर अथवा दक्षिण दिशा से आते हुए स्वर को रात्रि समय सुनने से विपदाएं बढ़ती हैं I
चीटिंयों से संबंधित शकुन
  1. यदि चींटियाँ भीड़ की शक्ल में सिर के ऊपर वाले हिस्से में छत की तरफ से निकलती दिखाई दें तो धन- सम्पत्ति और सुख के साधन बढ़ते हैं I
  2. बहुत सी लाल चीटियाँ घर के चारों तरफ अचानक से फैलने लगें तो इससे धन- नाश हो सकता है I
  3. घर में यदि चीटियाँ पहली बार घी के बर्तन से निकलती दिखाई दें तो आर्थिक हानि लेकिन यही चीटियाँ पहली बार चावल के बर्तन से निकलती दिखाई दें तो आर्थिक वृद्धि होती है I
  4. अपने अण्डों सहित चीटियाँ भारी मात्रा में घर की उत्तरी दिशा से निकलती दिखाई दें तो घर में सुख बढ़ते हैं I दक्षिण अथवा पश्चिम से चीटियों का निकलना सुखदायी एवं पूर्व अथवा अग्नि कोण से निकलना दुखदायी होता है I
सर्प संबंधी शकुन

 

  1. किसी महत्वपूर्ण कार्य के लिए निकलते समय मार्ग में सर्प का दिखाई देना शुभ शकुन नहीं है I
  2. यदि कोबरा जाति का सांप फन को उठाये हुए शांत चित्त दिखाई दें तो अच्छा शगुन है I
  3. फन को उठाए हुए सांप उच्च स्थान में मिलें तो आपकी बढ़ोत्तरी निश्चित है I
  4. बार- बार सर्पों का जागते में अथवा स्वप्न में दिखाई देना पितृ अथवा कालसर्प दोष का सूचक है I
  5. गर्भवती स्त्री को बारम्बार सर्प का सपने में दिखाई देना कष्ट को सूचित करता है I



जानिए क्या है शकुन और क्या है अपशकुन..........
अच्छे काम के लिए अच्छे मन से घर से निकले थे पीछे से किसी ने टोक दिया ..... ओहो...... अब ये काम कैसे पूरा होगा ?
इस तरह रोजमर्रा के जीवन में बार- बार घटित होने वाली घटनाओं का संस्था के शकुन शास्त्रियों से विश्लेषण करायें और जाने की क्या कहना चाहते हैं ये शकुन आपसे ?

                  Rs. 50 /- प्रति शकुन 


नजर अंदाज न करें अपने सपनों को ........
कुदरत धीरे से कुछ कहना चाहती है आपके कान में, कुछ हलचल होने वाली है जीवन में, स्वपन शास्त्री बतायेंगे आपको की क्या कहना चाहते हैं ये बेजुबान सपने, समझें और बनाएं इन्हें अपने..............
अपने सच्चे हुए स्वपन या शकुन को, अपने अनुभव को हमें बतायें और पायें पुरस्कार, साथ ही जन कल्याण के लिए, रिसर्च के लिए आपका ये कदम एक पूंजी बन सकती है, आपके अनुभव को हम पूरी दुनिया तक पहुचाएंगे I लिखें....
 
astromission99@gmail.com